Monday, 10 July 2017

जिओ उपभोक्ताओं की सुरक्षा के साथ धोखा: डिटेल्स लीक

एक प्राइवेट वेबसाइट पर जिओ के लगभग 12 करोड़ कस्टमर के डाटा लीक होने की खबर है. वेव साईट www.magicapk.com पर इन सूचनाओं के लीक होने की खबर थी. सूत्रों केअनुसार वेव साईट के सर्चबार में कोई जिओ नम्बर डालने पर उससे जुडी सभी सूचनाएं स्क्रीन पर दिख रही थी. अब इस वेबसाईट को बंद कर दिया गया है. यहाँ ये गौरतलब है जिओ के सभी नम्बर आधार से जुड़े हैं इस प्रकार कस्टमर की बायो-मीट्रिक डिटेल्स तक भी पहुंचा जा सकता है. अब इसी आधार से आपके बैंक अकाउंट और अन्य कई दस्तावेज भी जुड़े हैं. कई विशेषज्ञों ने जिओ को आधार से जोड़ने का इसी बात के लिए विरोध किया था कि यहाँ आसानी से जानकारियों को लीक किया जा सकता है. अगर ऐसा होता है तो काफी बड़ा सायबर आक्रमण भविष्य में किया जा सकता है.
अब जिओ ने अपने उपभोक्ताओं को विश्वास दिलाया है कि सारी सूचनाएं सुरक्षित रहेंगी. प्रवक्ता ने कहा कि हमने वेबसाइट के दावों के बारे में कानून का प्रवर्तन कराने वाली एजेंसियों को सूचित किया है. हम कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे. गौरतलब है कि मई में WannaCry नाम के एक मैलवेयर ने भारत सहित दुनिया भर में 3 लाख कंप्यूटरों को खराब कर दिया था। इसके बाद पिछले महीने Petya नाम के एक और रैनसमवेयर ने हमला किया था. इन हमलों के बाद साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों की जरूरत बढ़ गई है, जो संगठनों को अपने डाटा और सिस्टम को पहले से अधिक सिक्योर बनाने के लिए अधिक निवेश करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. 

No comments:

Post a Comment