Tuesday, 19 November 2019

ब्रेकिंग: सोनिया गांधी को 10 साल पुरानी टाटा सफारी

एसपीजी सुरक्षा वापस लेने के बाद अब सोनिया गांधी को दी गयी 10 साल पुरानी टाटा सफारी और पुलिस सुरक्षा को लेकर विवाद छिड़ गया है. मंगलवार को संसद में कांग्रेस ने इस मामले को उठाया और पीएम मोदी से सुरक्षा व्‍यवस्‍था में किए गए बदलाव पर जवाब मांगा. यहाँ आपको बता दें कि इस महीने की शुरुआत में ही गांधी परिवार से स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप को हटा दिया गया था और उन्हें जेड-प्लस सिक्योरिटी दी गई थी. जेड-प्लस सिक्योरिटी के तहत 100 सुरक्षाकर्मी सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालते हैं. 
Courtesy: Google Search
1991 में श्रीलंकाई आतंकवादी समूह ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कर दी थी. इसके बाद से ही गांधी परिवार को कड़ी सुरक्षा दी जा रही थी. लेकिन वर्तमान सरकार का मानना है कि अब गांधी परिवार को अब किसी विशेष सुरक्षा की आवश्यकता नहीं है. इसलिए उनकी सुरक्षा कम कर दी गयी है. अब सोनिया गांधी को कोई बुलेट प्रूफ गाड़ी नहीं दी गयी है इसके बजाय 10 साल पुरानी टाटा सफारी दी गयी है. इससे पहले एसपीजी प्रोटेक्शन के दौरान गांधी परिवार की सुरक्षा का जिम्मा वो कमांडो संभालते थे जो सबसे मजबूत और स्मार्ट होते हैं और उन्हें इसके लिए स्पेशल ट्रेनिंग भी दी जाती है. साथ ही सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी रेंज रोवर गाड़ि‍यों का उपयोग करती थीं जो किसी किस्‍म के धमाकों से बचने में भी सक्षम होती थीं जबकि राहुल गांधी फॉर्च्यूनर कार का उपयोग करते थे.
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सुरक्षा को भी कुछ समय पहले ही कम किया गया है. जिसके बाद उन्हें एसपीजी की तरफ से बख्तरबंद बीएमडब्ल्यू कर दी गई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक सीआरपीएफ ने एसपीजी से गांधी परिवार को भी बख्तरबंद गाड़ियां देने का अनुरोध किया है लेकिन अब तक एसपीजी ने इसपर कोई जवाब नहीं दिया है.
सरकार के इस कदम से नाराज कांग्रेस के नेताओं ने इस मामले को लेकर आज संसद में हंगामा किया. इस दौरान नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसदों ने भी कांग्रेस का साथ दिया. कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा में कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी सामान्य प्रोटेक्टी नहीं हैं. वाजपेयी जी ने भी गांधी परिवार को एसपीजी की प्रोटेक्शन दी थी. 1999 से लेकर 2019 तक कांग्रेस की सरकार 2 बार बनी लेकिन कभी भी गांधी परिवार से एसपीजी कवर की सुरक्षा नहीं हटाई गई. 

No comments:

Post a Comment