Sunday, 15 December 2019

नागरिकता संशोधन बिल: आग ही आग



नागरिकता संशोधन बिल को मोदी सरकार ने आसानी से संसद के दोनों सदनों में पास करवा लिया है. लेकिन उसके बाद के हालात उनके काबू से बाहर होते जा रहे हैं. आसाम फिर पo बंगाल और अब दिल्ली #CAB यानि सिटीजन अमेंडमेंट बिल के बाद धुँआ धुआँ हो रही है. बिल में क्या ठीक है या क्या गलत ये बात खास नहीं है आम आदमी का डर कुछ और है, उसे धारा 370 हटाने के बाद का अभी तक कई बैन के बीच कश्मीरियों का जीवन दिख रहा है.
कश्मीर में तो सरकार सेना के सहारे विद्रोह का दमन करने में सफल रही है लेकिन CAB पर सरकार ज्यादा ही विश्वास दिखा उसे लगा कि कश्मीर के बाद कोई विरोध नहीं होगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ, पूर्वोत्तर के साथ दिल्ली भी जलने लगी है. आज देखें तो देश में सरकार के खिलाफ कई समूह खड़े है उसमें छात्र भी है, असन्तोष से भरे युवा हैं, कर्मचारी हैं, पुलिस भी संतुष्ट नहीं है.
जामिया विद्रोह: दिल्ली फोटो: गूगल
आज जामिया के छात्रों का आंदोलन शाम होने तक आगजनी और पत्थरबाजी तक पहुंच गया ये हाल राजधानी दिल्ली का है. शाम होते ही दिल्ली पुलिस जामिया के अंदर घुसी है और छात्रों और छात्राओं पर लाठीचार्ज किया है इसमें कई छात्र घायल भी हुए हैं. इसके बाद दिल्ली विश्विद्यालय के छात्र भी जामिया स्टूडेंट्स के सपोर्ट में ITO पर इकठ्ठे हो गए हैं, इस आलेख को लिखे जाने तक जामिया और दिल्ली विश्विद्यालय के छात्रों के पुलिस मुख्यालय से हटाए जाने की कोई जानकारी पुलिस ने नहीं दी है. लेकिन जल्द ही सरकार इस मसले पर कोई बड़ा कदम न उठा सकी तो शायद हालात हाथ से निकल जाएं. स्टूडेंट के विद्रोह को डंडे के सहारे ज्यादा देर तक रोका नहीं जा सकता है कहीं ज्यादा देर देश को अनिश्चित संघर्ष की राह में धकेल ना दे. सरकार को दमन नहीं बातचीत का रास्ता अख्तियार करना चाहिए. वैसे जल्द ही दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने हैं.
(आशुतोष पाण्डेय)

No comments:

Post a Comment